News4All

Latest Online Breaking News

दरभंगा/ कोरोना को लेकर जनप्रतिनिधियों के साथ डीएम ने की वर्चुअल मीटिंग

: न्यूज़ डेस्क :

माननीय जनप्रतिनिधियों ने दिए अपने अपने सुझाव

दरभंगा : अन्य राज्यों में पुनः कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिलाधिकारी, दरभंगा डॉ. त्यागराजन एस.एम. ने दरभंगा के माननीय सांसद, माननीय विधायक, माननीय विधान पार्षद एवं गणमान्य व्यक्तियों के साथ कल समाहरणालय अवस्थित एन.आई.सी. से वर्चुअल मीटिंग की।

सर्वप्रथम बैठक को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी ने उपस्थित दरभंगा के माननीय सांसद श्री गोपाल जी ठाकुर, माननीय मंत्री श्रम संसाधन, पर्यटन व खान भूतत्व विभाग, बिहार सरकार श्री जीवेश कुमार, माननीय विधायक, केवटी श्री मुरारी मोहन झा, माननीय विधायक, अलीनगर श्री मिश्री लाल यादव, माननीय विधान पार्षद् श्री अर्जुन सहनी एवं श्री सर्वेश कुमार सिंह का हार्दिक अभिनन्दन किया।

जिलाधिकारी ने कहा कि पुनः कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए दरभंगा रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट पर अन्य राज्यों से आने वाले यात्रियों का शत्-प्रतिशत् जाँच करायी जा रही है। आज सुबह 6:45 बजे एक ट्रेन मुम्बई से आयी, जिससे दरभंगा उतरने वाले सभी यात्रियों की एंटीजन जाँच करायी गयी। 01 यात्री कोरोना पॉजिटिव मिले, जो मधुबनी जिला के हैं। मधुबनी जिला के जिलाधिकारी से बात कर उनको वहाँ भेज दिया गया है।
उन्होंने कहा कि मुंबई से दरभंगा रेलवे स्टेशन पर रोज रात को 12:45 बजे पवन एक्सप्रेस आती है एवं एक ट्रेन प्रत्येक सोमवार को कर्मभूमि एक्सप्रेस पूणे से आती है एवं मुम्बई से एक और ट्रेन प्रत्येक शुक्रवार को आती है। इन सभी ट्रेनों से आने वाले यात्रियों का शत्-प्रतिशत् कोरोना जाँच की जाएगी।

साथ ही दरभंगा एयरपोर्ट पर भी पूणे एवं मुम्बई से आने वाले फ्लाइ्ट के यात्रियों का भी शत्-प्रतिशत् कोरोना की जाँच करायी जा रही है। कोरोना टेस्ट में जो भी पॉजिटिव आ रहे है, उन्हें डी.एम.सी.एच.भेजा रहा है, जहाँ उनकी समुचित चिकित्सा की जा रही है। निगेटिव आने वाले लोगों को अनिवार्य रूप से 10 दिनों तक होम आइसोलेशन में रहने को कहा जा रहा है।

बैठक में बताया गया कि राज्य सरकार द्वारा महाराष्ट्र से आने वाले लोगों का 72 घंटे के अन्दर आर.टी.पी.सी.आर. जाँच करने का निर्देश प्राप्त है। विगत कुछ दिनों (01 अप्रैल से 08 अप्रैल तक) में लगभग 11,800 लोगों का कोरोना टेस्ट किया गया, जिसमें 80 लोग पॉजिटिव निकले हैं। दरभंगा जिला का पॉजिविभिटी दर 0.68 प्रतिशत है, जो बिहार के प्रतिशत् दर से 01 प्रतिशत् नीचे है। उन्होंने कहा कि जिला में टेस्टिंग भी लगातार बढ़ायी जा रही है। मार्च माह में 27,363 टेस्ट किये गये हैं। अप्रैल माह में 11 हजार 800 टेस्ट किये गये। इस प्रकार जिला में अबतक लगभग 06 लाख टेस्ट किये गए हैं।

आगे उन्होंने कहा कि अभी डी.एम.सी.एच. के आइसोलेशन में 120 बेड उपलब्ध है तथा उसके सामने परीक्षा भवन में बनाये गये जिला कोविड सेन्टर में 200 बेडों की व्यवस्था की गयी है। जिले के अन्य क्षेत्र जैसे एन.एन.एम. ट्रेनिंग स्कूल, बेनीपुर, बिरौल, किरतपुर इत्यादि 18 प्रखण्डों में से 14 प्रखण्डों में आइसोलेशन केन्द्र की व्यवस्था की गयी है, जिनमे 910 बेड उपलब्ध हैं, जिनमें 710 बेड ऑक्सीजन युक्त हैं। डी.एम.सी.एच. में 60 बेड का आई.सी.यू. चल रहा है। उन्होंने कहा कि वे स्वंय वहाँ निरीक्षण किए, वहाँ 25 बेड का ऑक्सीजन सहित वेंडिलेटर युक्त वेड उपलब्ध हैं, लेकिन चालू नहीं है । जिसके संबंध में प्रधान सचिव, स्वास्थ्य विभाग से वार्त्ता की गयी है और उनसे अनुरोध किया गया है कि इन्हें चालू कराने के लिए अतिरिक्त व्यवस्था की आवश्यकता है। प्रधान सचिव द्वारा जल्द ही चालू कराने का आश्वासन दिया गया। इसके साथ ही दरभंगा जिला में ऑक्सीजन युक्त वेंडिलेटर की संख्या बढ़कर 32 हो जाएगी।

बैठक में बताया गया कि दरभंगा जिला में अभी तक लगभग 01 लाख 60 हजार लोगों का टीकाकरण किया गया है, इसमें लगातार वृद्धि करायी जा रही है। 05 अप्रैल को एक दिन में लगभग 11 हजार लोगों को 06 अप्रैल को लगभग 10 हजार एवं 07 अप्रैल को 07 हजार लोगों का टीकाकरण कराया गया।

उन्होंने कहा कि जिला में अभी टीका उपलब्ध नहीं है। जिसके बारे में स्वास्थ्य विभाग को अवगत करा दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा आश्वास्त किया गया है कि जल्द ही टीका उपलब्ध करा दिया जाएगा। टीका उपलब्ध होते हुए पुनः दुबारा सरकार के निर्देश के आलोक में टीकाकरण चालू करा दिया जाएगा।

जिला में 09 जगह माइक्रो कंटेनमेन्ट जोन बनायी गयी है, अभी कंटेनमेन्ट जोन छोटे बनाये गये हैं, पहले 01 किलोमीटर रेडियस में बनता था, अभी इसे छोटे करके बनाये गये है ताकि मॉनिटरिंग अच्छी तरह से हो सके।
उन्होंने कहा कि सरकार के निर्देश के आलोक में अभी 45 वर्ष से ऊपर के लोगों का टीकाकरण करना है। उन्होंने कहा कि हेल्थ केअर वर्कर, फ्रंट लाइन वर्कर, कॉन्टेक्ट वर्कर, डॉक्टर्स, पुलिस फोर्स एवं होमगार्ड इन सभी को टीका दिया जा चुका है। जिला में 45 वर्ष से ऊपर के लोगों में से लगभग 80 हजार व्यक्ति टीका ले चुके हैं, लगातार सेसन साइट बढ़ायी जा रही है। अभी 102 सेसन साइट (टीकाकरण केंद्र) आयोजित कर वैक्सीनेशन कराया गया है। उन्होंने कहा कि जैसे ही वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगी, तुरंत वैक्सीनेशन का कार्य प्रारंभ करा दिया जाएगा।

वर्चुअल बैठक में उपस्थित माननीय मंत्री श्रम संसाधन, पर्यटन व खान भूतत्व विभाग, बिहार सरकार श्री जीवेश कुमार ने सर्वप्रथम बैठक में उपस्थित सभी गणमान्य जनप्रतिनिधियों एवं पदाधिकारियों का हार्दिक अभिनन्दन करते हुए कहा कि पिछले वर्ष जिलाधिकारी द्वारा बहुत ही अच्छे तरीके से कोरोना संक्रमण के समय में काम किया गया, इसके लिए उन्होंने जिलाधिकारी को धन्यवाद दिया।
उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा कोरोना ही नहीं बल्कि समय-समय पर आने वाले आपदा के समय में भी पूरी तत्परता के साथ और गंभीर परिस्थिति का सामना किया गया है और बेहतरीन कार्य किए गए हैं। अभी पुनः दुबारा कोरोना की परिस्थित सामने आयी है। अभी दरभंगा जिला में कोरोना नियंत्रण में है। उन्होंने कहा कि वे स्वंय भी स्वास्थ्य विभाग से बात किये हैं। दरभंगा जिला को जल्द ही वैक्सीन उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले बार ए.एन.एम. ट्रेनिंग स्कूल, जाले में भी कोविड सेन्टर बनाया गया था, जिसमें बेड एवं ऑक्सीजन की भी व्यवस्था की गयी थी। उन्होंने जिलाधिकारी को प्रखण्डवार सक्षम अस्पताल में भी कोरोना हेतु स्पेशल बेड की व्यवस्था करवाने का सुझाव दिया। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष के अनुसार अस्पतालों में भोजन भी अच्छी व्यवस्था कराने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि लोगों को टीकाकरण हेतु प्रेरित किया जाए। कोरोना से डरने की जरूरत नहीं है, कोरोना से लड़ने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सरकार के गाइडलाइन को अच्छी तरह से पालन करें, तो बेहतर रहेगा।

बैठक में उपस्थित दरभंगा के माननीय सांसद श्री गोपाल जी ठाकुर द्वारा सभी जनप्रतिनिधियों एवं जिलाधिकारी सहित उपस्थित सभी पदाधिकारियों को शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि पिछले वर्ष जो जिलाधिकारी ने दरभंगा जिला को बचाने का कार्य किया है, वह सराहनीय है।
उन्होंने सर्वप्रथम जिलाधिकारी को विशेष रूप से धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि अपके नेतृत्व में जिला प्रशासन द्वारा दरभंगा जिला में आयी बाढ़, सुखाड़, कोरोना की परिस्थिति एवं आपदा से जुड़ी हर परिस्थिति में बखूबी से जिला को बचाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि पंचायतवार टीकाकरण किया जाए एवं टीकाकरण को उत्सव के रूप में लिया जाए तथा जाँच की भी और संख्या बढ़ायी जाये। उन्होंने कहा कि देकुली अतिरिक्त स्वास्थ्य केन्द्र में एक एम्बुलेस अलग से एवं एक महिला डॉक्टर की व्यवस्था करवाने का सुझाव जिलाधिकारी को दिया।
उन्होंने खासकर कोसी क्षेत्र अवस्थित किरतपुर, गौड़ाबौराम, कुशेश्वरस्थान, कुशेश्वरस्थान पूर्वी एवं अलीनगर प्रखंड जो सीमावर्त्ती क्षेत्र है, उस पर विशेष रूप से प्रशासनिक ध्यान रखने का सुझाव दिया, क्योंकि यह क्षेत्र जिला मुख्यालय से काफी दूर हैं। आगे उन्होंने कहा कि उनके द्वारा स्वयं भी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, बेनीपुर, बेनीपुर अनुमण्डलीय अस्पताल, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, बहेड़ा, गौड़ाबौराम, किरतपुर एवं बिरौल का भ्रमण किया गया, जिसमें कुछ त्रुटि पायी गयी। जिसमें प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, सदर में खासकर शौचालय की व्यवस्था नहीं है।

माननीय विधायक, अलीनगर श्री मिश्री लाल यादव ने उपरोक्त सुझाव के साथ-साथ कहा कि टीकाकरण का कार्य पंचायतवार एवं गाँव में कैम्प लगाकर किया जाए। उन्होंने कहा कि कुछ दिन पूर्व केवटी प्रखण्ड के लदारी पंचायत के एक की मृत्यु कोरोना पॉजिटिव के कारण हुई थी, उस पंचायत में अच्छी तरह से कोरोना जाँच करवाने का सुझाव दिया। दरभंगा के सभी प्रखण्डों में जाँच की व्यवस्था की जाए और उसके बाद ही गाँव में प्रवेश की जाए। सरकार के दिशा-निर्देश को सख्ती से अनुपालन करवाया जाए।

माननीय विधायक, केवटी श्री मुरारी मोहन झा ने द्वारा बताया गया कि प्रखण्डों के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में कोरोना जाँच की व्यवस्था की जाए, ताकि बाहर से आने वाले लोगों का वहाँ जाँच करवायी जा सके। केवटी प्रखण्ड के पिण्डारूच पंचायत के 06 लोग कोरोना प्रभावित हुए हैं। उन्होंने चिकित्सा व्यवस्था में और सुधार करने का सुझाव दिया।

बैठक में उपस्थित माननीय विधान पार्षद श्री अर्जून सहनी द्वारा सुझाव दिया गया कि थाने के सभी पदाधिकारियों को मास्क का उपयोग एवं सामाजिक दूरी का शत्-प्रतिशत् अनुपालन कराने का निदेश दिया जाए। इस पर जिलाधिकारी द्वारा बताया गया कि अभी तक जिले के प्रमुख स्थलों, सब्जी मंडी, मार्केट, कम्पलैक्स, रेलवे स्टेशन, बस स्टैण्ड पर मास्क चेंकिग अभियान चलाया जा रहा है।आगे उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष कुछ क्वरंटाइन सेन्टर से लोगों को भागे जाने की सूचना मिली थी, इस पर भी विशेष ध्यान दिया जाए। उन्होंने कहा कि आंगनवाड़ी सेविका/सहायिका, जीविका दीदी के माध्यम से भी घर-घर जाकर लोगों को जागरूक किया जाए।

माननीय विधान पार्षद श्री सर्वेश कुमार सिंह द्वारा सुझाव दिया गया कि प्रचार-प्रसार का काम बढ़ाने की जरूरत है। लोगों में कोरोना का डर खत्म हो गया है। उन्होंने कहा कि पुनः कोरोना में वृद्धि हो रही है, इसलिए बिना काम के घर से बाहर न निकले के लिए लोगों को प्रेरित किया जाए।

बैठक के अन्त में जिलाधिकारी ने सभी माननीय जनप्रतिनिधियों को धन्यवाद देते हुए कहा कि आपके सुझाव को हम क्रियान्वित करा लेंगे। एक से दो दिनों में टेस्टिंग का पंचायतवार रोस्टर बनाकर आप लोगों को उपलब्ध करा देंगे।

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.