News4All

Latest Online Breaking News

चंडीगढ़/ यू.एस.एम. ने अपनी सेवाओं और आगामी योजनाओं को लेकर की प्रेसवार्ता

यू.एस.एम्. जल्द ही खालसा स्वास्थ्य केंद्र, ब्यास पिंड (जालंधर) को पंजाब के लोगों को समर्पित करेगा

यू.एस.एम् द्वारा नेत्र -स्वास्थ्य देखभाल के लिए मिशन फॉर विजन की रूप में दे रहा सेवा

चंडीगढ़ : रशपाल सिंह खालसा की अध्यक्षता में यूनाइटेड सिख मिशन (यू.एस.एम्) ने ग्रामीण स्वास्थ्य को ‘सुलभ और किफायती’ बनाने के मकसद से स्वास्थ्य सेवाओं को सभी के लिए सुलभ बनाने की एक बड़ी पहल की है। उन्होंने वीरवार को मीडिया को संबोधित करते हुए बताया कि उनका मिशन मानवता के प्रति समृद्धि और दयालुता फैलाने के लिए समुदाय में शांति को बढ़ावा देने के साथ-साथ रोकथाम योग्य चिकित्सा बीमारियों को खत्म करके स्वास्थ्य देखभाल आवश्यकताओं में असमानताओं को संबोधित करके दुनिया भर में समुदायों को सशक्त बनाना है।

इस मिशन के तहत, जालंधर के ब्यास पिंड गांव में ‘खालसा हेल्थ सेंटर’ के निर्माण का काम इस साल जून के महीने में शुरू हुआ और अक्टूबर 2024 तक पूरा होने की उम्मीद है। यह ‘खालसा हेल्थ सेंटर’ उनकी प्रेमपूर्ण माता पाल कौर और माता स्वर्ण कौर स्मृति को एक श्रद्धांजलि है, जिस के द्वारा ग्रामीण क्षेत्र में जरूरतमंदों की सेवा की जायेगी |

यू.एस.एम् अपने अभियान “मिशन फ़ॉर विज़न” के तहत 2005 से पंजाब राज्य में वंचितों की सेवा कर रहा है, जो ब्यास पिंड (जालंधर) में एक नेत्र शिविर के साथ शुरू हुआ और 2023-24 की वर्तमान स्थिति में 60 स्थानों पर 60 नेत्र शिविरों की अनुसूची के साथ आरम्भ हुआ। यह अभियान पंजाब राज्य के 600 से अधिक गांवों की आबादी को कवर करता है। (औसतन, एक शिविर आसपास के 10 गांवों को कवर करता है) ।

इसके अलावा, समुदाय की सेवा के लिए साल भर में 3 स्थानों – वीपीओ ब्यास पिंड (जालंधर), वीपीओ लताला (लुधियाना) और वीपीओ बिल्ली वड़ैच (जालंधर) में लगभग 40 शिविर प्रत्येक माह के प्रथम सप्ताह में नियमित रूप से होते हैं।

वर्ष 2023 के अंत तक, यूनाइटेड सिख मिशन (यू.एस.एम्) 2005 के बाद से 19 वर्षों की समयावधि में कुल 600 से अधिक नेत्र शिविरों को छू लेगा।

रशपाल सिंह खालसा ने बताया कि यह “मिशन फॉर विजन” पूरे पंजाब राज्य में अभी इस सीज़न में ज़िले – जालंधर, लुधियाना, फिरोजपुर, अमृतसर, कपूरथला, होशियारपुर, तरन-तारन, फतेहगढ़ साहिब, गुरदासपुर, संगरूर में २१ निशुःल्क आँखों के कैम्पों के द्वारा समुदाय की सेवा कर पायी है, और अभी 40 से अधिक कैंप का आयोजन अनुसूचित है । आने वाले हफ्तों और मार्च 2024 तक और भी कैम्प निर्धारित हैं जो हरियाणा में कुरुक्षेत्र , पंजाब में रूपनगर (रोपड़), एसबीएस नगर नवांशहर, फरीदकोट, मोगा, बठिंडा, मुक्तसर और के गांवों को भी कवर करेंगे। उन्होंने कहा कि यह “मिशन फॉर विजन” का आयोजन लगभग पंजाब के 23 जिलों में से 17 जिलों को कवर करता है, जो पंजाब राज्य के क्षेत्र का लगभग 75% है। इन कैम्प में निकटवर्ती राज्यों के लोग भी आते हैं | इस वर्ष के शिविर 18 सितंबर से शुरू हुए , जहां हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी नि:शुल्क नेत्र जांच, नि:शुल्क दवाएं, नि:शुल्क चश्में और शिविरों में नि:शुल्क नेत्र-सर्जरी के प्रावधान और व्यवस्थाएं रहीं हैं और साथ में नि:शुल्क भोजन भी उपलब्ध कराया गया है । ऑपरेशन से पहले और बाद भी मरीज़ों की देखभाल – एक महीने तक फॉलो-उप भी किया जाता है |

प्रेस कांफ्रेंस में यह साझा किया गया कि पिछले दो महीनों में 21 कैंप के आयोजन के द्वारा कुल 8719 ओपीडी, 1165 सर्जरी, 5060 चश्मे और 10903 से अधिक दवाओं को प्रदान किया जा चुका है |

पर्यावरण की रक्षा करने और स्थिरता सुनिश्चित करने के उद्देश्य से , यू.एस.एम. ने श्री हरमंदिर साहिब, अमृतसर में सोलर पैनल स्थापित करने का महत्वपूर्ण कार्य सफलतापूर्वक सम्पूर्ण किया है, और जिसकी पूर्णता रिपोर्ट 26 जून, 2023 को शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (एस.जी.पी.सी) कोसौंपी जा चुकी है। इसके अलावा, सोलर पेनल्स की 10 साल के मुफ्त रखरखाव को भी ‘सेवा’ के रूप में लिया गया है।

इस विशाल परियोजना के माध्यम से कुल 1223 किलोवाट के सोलर पेनल्स को 17 इमारतों पर सफलतापूर्वक लागू किया गया है, जिससे श्री हरमंदिर साहिब (अमृतसर), बीर बाबा बुड्ढा साहिब (थथा , तरन-तारन) और गुरुद्वारा शहीद बाबा दीप सिंह जी (अमृतसर) में बिजली की खपत 33% कम हो गई है।

सोलर पैनलों की पहल पर अत्यंत स्पष्टता और पारदर्शिता के साथ किए गए कार्यों का दस्तावेजीकरण करने और दिखाने के लिए एक फिल्म भी बनाई गई है। इसका निर्माण सिखलेंस कम्युनिटी वॉयस इनिशिएटिव के तहत किया गया है और इसका निर्देशन राष्ट्रीय पुरूस्कार विजेता ओजस्वी शर्मा ने किया है। यह फिल्म यूनाइटेड सिख मिशन और सिख्लेंस की वेबसाइट एवं यूट्यूब चैनल पर देखने के लिए उपलब्ध है।

यूएसएम श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर के निर्माण में अपनी भूमिका पर ‘द अनटोल्ड स्टोरी’ नामक एक फिल्म बनाने की प्रक्रिया में है, जिसका उद्देश्य उनकी अनकही कहानी को उजागर करना है।
फिल्मांकन 2024 की पहली तिमाही में शुरू होगा।

रशपाल सिंह ने अपनी सामाजिक प्रतिबद्धता के लिए नैतिकता और अखंडता बनाए रखने के लिए अपने ट्रेडमार्क और बौद्धिक संपदा अधिकारों की सुरक्षा के लिए अपने लोगो और फाउंडेशन के नाम की सुरक्षा के लिए यूएसएम द्वारा उठाए गए सक्रिय कदमों को साझा किया।

उन्होंने स्वास्थ्य सेवा और शिक्षा में दीर्घकालिक लक्ष्यों पर जोर देते हुए व्यक्तियों और संगठनों से संरक्षक के रूप में हाथ मिलाने की अपील की। उन्होंने निकट भविष्य में हिमाचल और जम्मू जैसे पड़ोसी राज्यों में विस्तार करने की योजना के साथ सीएसआर, संसाधन जुटाने, स्वयंसेवकों, डॉक्टरों और पूरे पंजाब में जिला स्तर पर समन्वयकों की स्थापना के लिए प्रस्ताव रखा एवं समर्थन मांगा। उन्होंने सामुदायिक आवाज़ पहल में सिखलेंस की भूमिका को विशेष रूप से मान्यता देते हुए सभी भागीदारों के प्रति आभार व्यक्त किया।

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.