News4All

Latest Online Breaking News

चंडीगढ़/ पीआईबी और आरओबी चंडीगढ़ द्वारा ‘स्वच्छ भारत मिशन’ और ‘जल स्वच्छता’ पर वेबिनार का किया गया आयोजन

हमें स्वच्छता की आदत अपनाने की जरूरत है : राजेंद्र चौधरी 

स्वच्छ भारत के उनके सपने को साकार करने के लिए हम गांधी जी के ऋणी हैं : विवेक वैभव

हमें पानी बचाने पर ध्यान देना होगा नहीं तो ‘हर घर जल’ सपना ही रह जाएगा : एम.आर. सरस्वा

हमें गर्व होना चाहिए कि अब हमारी मां-बहनों को खुले में शौच के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा : डॉ. पंकज गौर

चंडीगढ़ : सूचना और प्रसारण मंत्रालय के तहत प्रादेशिक जनसम्पर्क ब्यूरो (आरओबी) और पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी), चंडीगढ़ ने आज ‘स्वच्छ भारत मिशन’ और ‘जल स्वच्छता’ पर एक वेबिनार का आयोजन किया।
वेबिनार की शुरुआत प्रादेशिक जनसम्पर्क ब्यूरो, चंडीगढ़ के हाल ही में नियुक्त निदेशक श्री विवेक वैभव के संबोधन से हुआ। उन्होंने कहा कि 1947 में गांधी जी के नेतृत्व में हमें आजादी मिली, लेकिन स्वच्छ भारत का उनका सपना अभी भी अधूरा है। स्वच्छ भारत के उनके सपने को साकार करने के लिए हम गांधी जी के ऋणी हैं।

वेबिनार को जारी रखते हुए श्री राजेंद्र चौधरी, अपर महानिदेशक, पीआईबी चंडीगढ़ ने महात्मा गांधी के प्रयासों से शुरू हुई भारत की स्वच्छता की कहानी पर चर्चा की और स्वच्छता कवरेज को बेहतर बनाने में ‘स्वच्छ भारत मिशन’ की भूमिका पर भी चर्चा की। इस प्रयास में शिक्षण संस्थानों की भूमिका के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा, “हमें स्वच्छता की आदत अपनाने की जरूरत है, जिसके लिए हमें स्वच्छता के महत्व के बारे में सभी को शिक्षित करने की जरूरत है।“

श्री मगातु राम सरस्वा, जिला आईईसी और इक्विटी सलाहकार, डब्ल्यूएसएसओ/पीएचईडी ने खुले में शौच की समस्याओं और स्वच्छ भारत मिशन के तहत हासिल की गई सफलता के बारे में बताया। उन्होंने पानी को कम करने और पुन: उपयोग करने की आवश्यकता के बारे में भी बताया। उन्होंने जोर देकर कहा, “हमें पानी बचाने पर ध्यान देना होगा नहीं तो ‘हर घर जल’ एक सपना बनकर रह जाएगा।”

डॉ पंकज गौर, व्याख्याता, सीनियर सेकेंड स्कूल, निवाज नगर ने भी इस अवसर पर अपने विचार साझा किए। उन्होंने स्वच्छता को आदत बनाने में स्कूलों की भूमिका पर भी जोर दिया। माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी को श्रेय देते हुए उन्होंने कहा कि हमें गर्व होना चाहिए कि हमारी माताओं और बहनों को अब खुले में शौच के लिए बाहर नहीं जाना पड़ता है।

श्री राजेश अरोड़ा, प्रभारी, एफओबी, नारनौल ने सत्र का संचालन किया और श्री. हर्षित नारंग, सहायक निदेशक, पीआईबी, चंडीगढ़ ने वक्ताओं और उपस्थित प्रतिभागियों को धन्यवाद ज्ञापन के साथ वेबिनार का समापन किया।

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.