News4All

Latest Online Breaking News

चुनाव जीते हुए अधिकांश प्रत्याशियों की संपत्ति में होनेवाली बेतहाशा वृद्धि पर आधारित बतकही

✍️ नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान

 

ककुवा ने प्रपंच की शुरुआत करते हुए कहा- चुनाव जौ न होयँ तौ नेतन कय पोल-पट्टी खुलबय न करय। विधानसभा अउ लोकसभा चुनाव म नेता याक-दुसरे कारनामा बताय देत हयँ। वइस तौ हमाम मा सब नंगे हयँ। बीते 74 साल म इ नेता लोग कतने घोटाला कय डारिन! युहु कोऊ ते छुपा नाय हय। लोग हवाई चप्पल अउ पाजामा पहिनके राजनीति म आवत हयँ। उई विधायक, सांसद, मंत्री बनतय करोड़पति होय जात हयँ। नेता तीर देखतय-देखत भट्ठा, फैक्टरी, पेट्रोल पंप, एजेंसी सबकुछ होय जात हय। बाति हिंयय तलक सीमित नाइ हय। नेतन क फिटफीटी वाले चिंटू-मिंटू स्कारपियो अउ फारचूनर ते चलय लागत हयँ। नेता कमीशन, खदान, कटान, लाइसेंस, ठेका, परमिट, अउ तबादला उद्योग ते करोड़न कमात हयँ। सरकार म रहिके घपला-घोटाला करत हयँ। पहिले अटलजी, लोहियाजी, शास्त्रीजी जइस ईमानदार नेता होत रहयँ। नए जमाने म मोदी-योगी तिना कुछु नेता जरूर ईमानदार हयँ।
चतुरी चाचा अपने चबूतरे पर विराजमान थे। वह गांव के बच्चों को गांव-जवार का कुछ पुराना इतिहास बता रहे थे। ककुवा, कासिम चचा, मुंशीजी व बड़के दद्दा भी पुरानी बातें बड़ी तल्लीनता से सुन रहे थे। आज सुबह मौसम बहुत बढ़िया था। चटख धूप में पछुवा डोल रही थी। चबूतरे के आसपास माहौल पूरी तरह बंसती था। पुरई श्यामा गाय और उसके बछड़े को नहला रहे थे। मेरे पहुंचते ही बच्चे कबड्डी खेलने चले गए। फिर ककुवा ने प्रपंच का आगाज कर दिया। ककुवा का कहना था कि राजनीति अब कमाई का साधन बन गयी है। सामान्य दाल-रोटी खाने वाला व्यक्ति राजनीति में आता है। वह कुछ ही दिनों में करोड़पति बन जाता है। नेता लोग तरह-तरह से काली कमाई करते हैं। जनहित को ताक पर रखकर बड़े-बड़े घपले-घोटाले करते हैं। नेताओं के पिछलग्गू भी मोटी रकम कमा लेते हैं। देश में अब ईमानदार नेताओं का अकाल पड़ गया है। राजनीति को अटलजी, शास्त्रीजी, लोहियाजी, मोदीजी व योगीजी जैसे नेताओं की जरूरत है। तभी आमजन का कल्याण हो सकेगा।
चतुरी चाचा ने ककुवा की बात का सर्मथन करते हुए कहा- ककुवा, तुमरी बात म बड़ा दम हय। पहिले लोग जनसेवा ख़ातिन राजनीति म आवत रहे। अब तौ राजनीति कमाई जरिया बनि गय। तुम विधायक, सासंद अउ मंत्री क बात कय रहे हौ। खाली परधान अउ पंचायत प्रतिनिधिन क द्याखव। इ सब पांचय साल म अपन हैसियत बनाय लेत हयँ। सरकारी योजनन का दुनव हाथे लूटत हयँ। गनीमत या हय कि मोदी जइस फकीर परधानमन्त्री बनिगा। सात साल ते नेतन केरी बेईमानी-मक्कारी प रोक लागि हय। सरकारी योजनन म बंदरबांट बहुतै कम होय गवा। मोदी सरकार जनता का सीधे लाभ दै रही हय। इ बखत गुंडन अउ अपराधिन का राजनीति ते बाहर करय क जरूरत हय। कौनिव अइस व्यवस्था होय क चही, जिहते माफिया राजनीति न कय सकयँ। साँच पूछव तौ भ्रष्टाचार लोकतंत्र म दीमक तिना लाग हय। यहिका विनाश बड़ा आवश्यक हय। यहि पर विचार करय क जरूरत हय। जनता का चही कि वह ग्रामसभा त लैके लोकसभा तलक साफ-सुथरी छवि वाले उम्मीदवारन का चुनय। राजनीतिक दलन केरी अंधभक्ति घातक हय।
इस बीच चंदू बिटिया हम प्रपंचियों के लिए जलपान लेकर आ गयी। आज कुल्हड़ वाली स्पेशल चाय के साथ आलू व बंडे का चटपटा कचालू था। जलपान के बाद मुंशीजी ने प्रपंच को आगे बढ़ाते हुए कहा- चुनाव में मजा खूब आ रहा है। नेता अपने-अपने विरोधी को सरेआम नंगा कर रहे हैं। जनसभाओं में गड़े मुर्दे उखाड़े जा रहे हैं। यूपी में गर्मी, चर्बी व भर्ती के आगे विकास की बातें बेमानी हो गईं। चुनाव प्रचार में बुलडोजर, माफिया, जुमलेबाज, झूठे का मंजीरा बज रहा है। चौथे चरण का मतदान आते-आते नेता एक, दूसरे पर व्यक्तिगत हमले करने लगे हैं। आज पँजाब की सभी 117 सीटों पर मतदान हो रहा है। वहीं, उत्तर प्रदेश में तीसरे चरण की 59 सीटों पर वोटिंग हो रही है। यहाँ 23 फरवरी को चौथे चरण का मतदान होगा। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर आरोप लगा है कि वह पँजाब में खालिस्तान समर्थकों की मदद कर रहे हैं। पँजाब के मुख्यमंत्री चन्नी ने गृहमंत्री शाह से केजरीवाल की जांच कराने की मांग की है। केन्द्र सरकार आप पार्टी के अगुवा की जांच कराने की बात कही है। इधर, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक आतंकवादी से भी सपा के रिश्ते बताए हैं। इसके पहले योगीजी सपा को तमंचावादी करार दे ही चुके हैं।
कासिम चचा ने विषय परिवर्तन करते हुए कहा- पूरी दुनिया कोरोना महामारी से लड़ रही है। हर देश में महंगाई और बेरोजगारी की मार पड़ रही है। ऐसे में तीसरे विश्वयुद्ध की आशंका के बदल मंडरा रहे हैं। रूस अपने पड़ोसी मुल्क यूक्रेन पर हमले की सारी तैयारी कर चुका है। रूसी फौज किसी भी वक्त यूक्रेन पर हमला बोल सकती है। अमेरिका और उसके सभी मित्र देश यूक्रेन के साथ खड़े हैं। आजकल वहां बड़ी चिंताजनक स्थिति बनी है। अगर रूस और यूक्रेन के मध्य जंग शुरू हो गई, तो विश्व के अन्य कई ताकतवर देश युध्द में कूद पड़ेंगे। कुछ देश रूस के पक्ष में जंग करेंगे। कुछ देश यूक्रेन की लड़ाई लड़ेंगे। कुलमिलाकर दुनिया के कई हिस्सों में जंग हो सकती है। यदि तीसरा विश्वयुद्ध हुआ, तो इसके बड़े गम्भीर परिणाम होंगे। परमाणु हथियारों से लैस देशों का टकराव दुनिया के हित में नहीं होगा।
बड़के दद्दा ने दो अच्छी खबरें देते हुए बताया कि मध्यप्रदेश के इंदौर में एशिया का सबसे बड़ा सीएनजी प्लांट चालू हो गया। प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार को गीले-सूखे कचड़े से गैस बनाने वाले इस मेगा प्लांट का उदघाटन कर दिया। उधर, गुजरात में सीरियल बम ब्लास्ट के 49 आरोपियों को सजा सुना दी गई। इसमें 35 आरोपियों को फांसी और 11 गुनाहगारों को उम्रकैद की सजा दी गई है। बाकी आरोपियों को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया है। वर्ष 2008 में प्रतिबंधित सिमी संगठन के आतंकियों ने गुजरात में तबाही मचाई थी। इनके निशाने पर गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी भी थे। परन्तु, खुफिया इनपुट के कारण मोदी बाल-बाल बच गए थे। साथ ही, उन्होंने बताया कि इस बार रबी फसल बहुत अच्छी है। गेंहू, सरसों, चना, मटर, अरहर, मसूर, जौ व आलू इत्यादि फसलों का उत्पादन बढ़ेगा।
मैंने प्रपंचियों को कोरोना अपडेट देते हुए बताया कि विश्व में अबतक 42 करोड़ 21 लाख से अधिक लोग कोरोना की जद में आ चुके हैं। इनमें करीब 59 लाख की मौत हो चुकी है। इसी तरह भारत में चार करोड़ 28 लाख से ज्यादा लोग कोरोना से प्रभावित चुके हैं। देश में अबतक पांच लाख 11 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। नए मरीजों की दैनिक संख्या में भारी गिरावट आई है। शनिवार को मात्र 22, 270 नए मामले आए थे। रोजाना मौतों का आंकड़ा 325 पर सिमट गया था। देश भर में आज सिर्फ ढाई लाख सक्रिय मामले हैं। महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, गुजरात व दिल्ली की भी स्थिति काफी सुधर गई है। विभिन्न राज्यों में स्कूल/कॉलेज खुल गए हैं। जिंदगी एक बार से पटरी पर दौड़ने लगी है।
भारत की 80 प्रतिशत आबादी को कोरोना टीके की दोनों खुराक दी जा चुकी है। देश के ज़्यादातर बच्चों (15 से 18 वर्ष) को कोरोना टीके की पहली खुराक मिल गयी है। वहीं, कोरोना योद्धाओं और बुजुर्गों को बूस्टर डोज लगाई जा रही है। एक मार्च से 12 से 15 वर्ष आयु वाले बच्चों को भी वैक्सीन दी जाएगी। बहरहाल, हम सबको दो गज की दूरी और मास्क जरूरी का नियम मानना होगा। तभी हम सब इस वैश्विक महामारी से सुरक्षित रहेंगे।
अंत में चतुरी चाचा ने सभी से शत-प्रतिशत मतदान करने की अपील की। साथ ही, उन्होंने सबको छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती की बधाई दी। इसी के साथ आज का प्रपंच समाप्त हो गया। मैं अगले रविवार को चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे पर होने वाली बेबाक बतकही के साथ फिर हाजिर रहूँगा। तबतक के लिए पँचव राम-राम!

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.