News4All

Latest Online Breaking News

मोहाली/ फोर्टिस अस्पताल ने शुरू की ब्रेन स्ट्रोक हेल्पलाइन सेवा

✍️ सोहन रावत, चंडीगढ़

वल्र्ड स्ट्रोक डेब्रेन स्ट्रोक: समय से पहले इलाज की जरूरत

चंडीगढ़ : जिन मरीजों को ब्रेन स्ट्रोक हुआ है और वे समय पर अस्पताल नहीं पहुंच पा रहे थे उनके लिए अब मैकेनिकल थ्रोम्बेक्टोमी उम्मीद की एक नई किरण है, जो कि स्ट्रोक के उपचार का एक नया और एडवांस्ड माध्यम है।

फोर्टिस अस्पताल, मोहाली, मैकेनिकल थ्रोम्बेक्टोमी की पेशकश करने वाला उत्तर भारत का एकमात्र ‘‘स्ट्रोक-रेडी अस्पताल’’ है, और 24 घंटे 7 दिन एक सक्षम टीम से लैस है जिसमें अत्यधिक अनुभवी डॉक्टर शामिल हैं।

इस संबंध में जानकारी देते हुए डॉ. प्रो. विवेक गुप्ता, एडीशनल डायरेक्टर, इंटरवेंशनल न्यूरोरेडियोलॉजी, फोर्टिस हॉस्पिटल, मोहाली ने कहा कि ‘‘मैकेनिकल थ्रोम्बेक्टोमी ब्रेन स्ट्रोक के रोगियों के लिए एक वरदान साबित हुआ है क्योंकि गोल्डन ऑवर के भीतर समय पर मेडिकल मदद मिलने से मरीज को जीवन भर बने रहने वाले पक्षाघात या मृत्यु से बचा सकता है।’’

हाल ही में, डॉ. गुप्ता के नेतृत्व में डॉक्टरों की टीम ने चंडीगढ़ के 87 वर्षीय एक मरीज का सफलतापूर्वक इलाज किया, जो ब्रेन स्ट्रोक से पीडि़त होने के 10 घंटे बाद अस्पताल में लाया गया था और उसके शरीर के दाहिने हिस्से को लकवा मार गया था।

जांच करने पर, रोगी ने तीव्र स्ट्रोक के लक्षण प्रदर्शित किए क्योंकि उसके मस्तिष्क के दाहिने हिस्से में रक्त की आपूर्ति अवरुद्ध हो गई थी। डॉ.गुप्ता के नेतृत्व में डॉक्टरों की टीम ने मरीज पर मैकेनिकल थ्रोम्बेक्टोमी की और उसकी धमनी से थक्का हटा दिया। फोर्टिस मोहाली में काफी अच्छे से रीहैबलिटेशन के बाद, मरीज को सर्जरी के चार दिन बाद छुट्टी दे दी गई और वह आज काफी हदतक सामान्य जीवन जी रहा है।

फोर्टिस अस्पताल, मोहाली, इस क्षेत्र का पहला स्ट्रोक के लिए तैयार अस्पताल बनने के बारे में विस्तार से बताते हुए, डॉ. गुप्ता ने कहा कि ‘‘आदर्श रूप से, स्ट्रोक के मरीज एक अस्पताल में इलाज के लिए जाते हैं, दूसरे में सीटी स्कैन करवाते हैं, और अंत में स्ट्रोक अस्पताल में पहुंचते हैं।’’

स्वर्णिम समय के दौरान बहुत महत्वपूर्ण समय बर्बाद होता है और यह हमेशा पक्षाघात या मृत्यु की ओर ले जाता है। फोर्टिस हॉस्पिटल, मोहाली एक स्ट्रोक-तैयार अस्पताल है और इसमें न्यूरोलॉजिस्ट, इंटरवेंशनल न्यूरोरेडियोलॉजिस्ट, न्यूरोसर्जन और एनेस्थेटिस्ट शामिल हैं जो 24 घंटे 7 दिन स्ट्रोक उपचार जैसे थ्रोम्बोलिसिस या मैकेनिकल थ्रोम्बेक्टोमी प्रदान करते हैं। फोर्टिस मोहाली एक ही छत के नीचे स्ट्रोक डायग्नोसिस, उपचार और रीहैबलिटेशन से संबंधित सभी सेवाएं प्रदान करता है। फोर्टिस मोहाली ने अक्यूट स्ट्रोक के रोगियों के लिए एक समर्पित स्ट्रोक हेल्पलाइन – 9815396700- भी स्थापित की है।

29 अक्टूबर को विश्व स्ट्रोक दिवस मनाने के महत्व के बारे में बात करते हुए डॉ.गुप्ता ने कहा कि ‘‘इसका उद्देश्य ब्रेन स्ट्रोक के बारे में जागरूकता बढ़ाना और इसके कारणों, लक्षणों और रोकथाम के बारे में लोगों को शिक्षित करना है। शारीरिक गतिविधि और नियमित व्यायाम, कोलेस्ट्रॉल और रक्त शर्करा (ब्लड शुगर) के स्तर पर नजऱ रखने, रक्तचाप को नियंत्रित करने और स्वस्थ जीवन शैली का पालन करने से स्ट्रोक को रोकने में मदद मिल सकती है। पिछले दो वर्षों में महामारी के कारण, लोग घर से काम कर रहे हैं और इसने एक स्थिर और गतिहीन जीवन शैली को जन्म दिया है। इससे उच्च रक्तचाप (हाई ब्लडप्रेशर), हृदय रोग, मधुमेह (डायबटीज) और यहां तक कि स्ट्रोक जैसी विभिन्न बीमारियां हो सकती हैं। हर दिन कम से कम 20-30 मिनट के लिए तेज चलना या साइकिल चलाना न केवल आपको फिट रहने में मदद करेगा, बल्कि कई बीमारियों को दूर रखेगा।’’

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.