सहरसा/ 13 अगस्त तक चलेगा सघन दस्त पखवाड़ा : प्रमण्डलीय आशा समन्वयक – News4 All

News4 All

Latest Online Breaking News

सहरसा/ 13 अगस्त तक चलेगा सघन दस्त पखवाड़ा : प्रमण्डलीय आशा समन्वयक

😊 Please Share This News 😊

घरों तक ओआरएस पहुँचने के लिए सरकार कटिबद्ध

दस्त होने पर जिंक गोलियों का 14 दिनों तक सेवन जरूरी

सहरसा : जिले में सघन दस्त पखवाड़ा जारी हैं। शून्य से 5 वर्ष तक के बच्चों की डायरिया से मृत्यु दर को शून्य करने के उद्देश्य से सरकार द्वारा 15 से 30 जुलाई तक सघन दस्त पखवाड़ा कार्यक्रम चलाया जा रहा है। जिसके तहत जिले के वैसे सभी घर जहाँ शून्य से 5 साल तक के बच्चे रहते हैं, उन सभी घरों में ओआरएस पैकेट पहुँचाये जाने थे। जिले में ऐसे कुल घरों की संख्या 4 लाख 57 हजार 679 है। इन घरों में कुल 3 लाख 67 हजार 515 बच्चे रहते हैं। जिन्हें ओआरएस के पैकेट दिया जाना है। इसके लिए सरकार द्वारा जिले को 4 लाख 3 हजार 862 पैकेट ओआरएस एवं 1 लाख 51 हजार 263 जिंक टेबलेट उपलब्ध कराये गये थे।

घर-घर जाकर आशा वितरित कर रहीं हैं ओआरएस का पैकेट-

प्रमण्डलीय आशा समन्वयक अभिनाश कुमार ने बताया शून्य से 5 साल तक के बच्चों का डायरिया यानि दस्त से मृत्यु दर को शून्य करने के लिए सरकार द्वारा सघन दस्त पखवाड़ा का आयोजन किया गया है। जिसके तहत पाँच वर्ष के कम उम्र वाले बच्चों के घरों में प्रति बच्चा एक-एक पैकेट ओआरएस का वितरण किया जाना है। वितरण करने के दौरान कोविड- 19 महामारी को देखते हुए ग्रामीण/शहरी आशा द्वारा कोविड- 19 अनुरूप व्यवहारों को अपनाते हुए घरों में ओआरएस का पैकेट वितरित किया जाना है। परिवार के सदस्यों के समक्ष ओआरएस घोल बनाना एवं इसके उपयोग की विधि, इससे होने वाले लाभ, साफ-सफाई, हाथ धोने के तरीके आदि की जानकारी दी जा रही है। इसके साथ ही परिवार को कई विन्दुओं पर परामर्श भी दिया जा रहा है।

दस्त होने पर जिंक का सेवन जरूरी-

दस्त होने के दौरान बच्चों को जिंक का उपयोग उनकी उम्र के अनुसार कराया जाना जरूरी है। यहां तक की दस्त बंद हो जाने के बाद भी जिंक की निश्चित खुराक 14 दिनों तक जारी रखी जानी चाहिए। जिंक का प्रयोग करने से दस्त की तीब्रता में कमी आती है एवं अगले 2 से 3 महीने तक दस्त एवं निमोनिया होने की संभावना कम हो जाती है। प्रमण्डलीय आशा समन्वयक ने बताया जिंक तथा ओआरएस के उपयोग से दस्त ठीक होने पर भी बच्चों को नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्रों पर ले जायें। दस्त के दौरान और दस्त के बाद भी आयु के अनुसार स्तनपान, उपरी आहार तथा भोजन जारी रखनी चाहिए।

सभी घरों तक पहूँचे ओआरएस का पैकेट-

प्रमण्डलीय आशा समन्वयक अभिनाश कुमार ने कहा 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चे वाले सभी घरों में प्रति बच्चा एक ओआरएस का पैकेट मिलना सुनिश्चित होने पाये इसके लिए सरकार कटिबद्ध है। ताकि दस्त से किसी भी बच्चे की मृत्यु न होने पाये। उन सभी घरों में ओआरएस का पैकेट पहूँचने पाये इसके लिए सरकार द्वारा सघन दस्त पखवाड़े की अवधि बढ़ायी गई है साथ ही यदि कहीं पर दस्त के मामले प्रतिवेदित हो तो उचित सक्रियता के साथ चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध करायी जा सके।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!