कविता/ ताश के 52 पत्तों में कैसे पूरा वर्ष भरा – News4 All

News4 All

Latest Online Breaking News

कविता/ ताश के 52 पत्तों में कैसे पूरा वर्ष भरा

😊 Please Share This News 😊

ताश खेलते सबहैं पर ये जाने न कोई,
खेला जाता सभी जगह जाने न कोई।

सभी समझते हैं टाइमपास मनोरंजन,
4यार मिल ताश खेलें करें मनोरंजन।

वैज्ञानिक आधार है यह है जाने कोई,
प्रकृति सेभी जुड़ा हुआ है जाने कोई।

आयताकार मोटे कागज के हैं ये पत्ते,
ईंट पान चिड़ी हुकुम 4किस्म के पत्ते।

4 प्रकार के 13 पत्ते कुल हैं 52 जानें,
लेकिन कैसे जुड़ा हुआ आयें ये जानें।

पत्ते एक्के से दस्से गुलाम रानी राजा,
2-10 काटें एक्के गुलाम रानी राजा।

52पत्ते का अर्थ है वर्ष के 52सप्ताह,
4किस्म के पत्ते कहें 1ऋतु13सप्ताह।

4रंग के 13पत्ते 13-13सप्ताह 4ऋतु,
प्रमुख हैं शीत ग्रीष्म बसंत वर्षा ऋतु।

1 प्रकार के पत्तों का 1*13=91 योग,
4किस्म है पत्ते का4*91=364योग।

364में 1जोकर जोड़ें 365दिन 1वर्ष,
दूजा जोकर365+1=366 लीप वर्ष।

ईंट-पान लाल व चिड़ी-हुकुम काला,
लाल रंग ये दिन है रात रंग है काला।

52पत्तों में12चित्र पत्ते हैं यह12माह,
देखा कैसे 52पत्तों ने कहा है12माह।

ताश के पत्तों में भरा ज्ञान का प्याला,
ताश के मर्म पर कविता लिख डाला।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!