मोहाली/ विश्व अस्थमा दिवस आज : फोर्टिस हॉस्पिटल ने लोगों को जागरूक करने पर दिया बल – News4 All

News4 All

Latest Online Breaking News

मोहाली/ विश्व अस्थमा दिवस आज : फोर्टिस हॉस्पिटल ने लोगों को जागरूक करने पर दिया बल

😊 Please Share This News 😊

डॉ. जफर अहमद इकबाल ने अस्थमा के रोगियों को पराली जलाने के दौरान आवश्यक सावधानियों का पालन करने की सलाह दी

 

मोहाली : श्वसन संबंधी बीमारियां, मुख्य रूप से अस्थमा, हमारे देश में सबसे कम और कम निदान (डायग्नोसिस) वाली बीमारी बनी हुई है, यहां तक कि सांस की बीमारियों से प्रभावित रोगियों की संख्या हर साल बढ़ती जा रही है, खासकर जब से कोविड 19 की शुरुआत हुई है। कई कारकों ने अस्थमा के मामलों में वृद्धि में योगदान दिया है, चाहे वह बढ़ते प्रदूषण का स्तर हो, फेफड़ों पर लंबे समय तक कोविड का प्रभाव या पराली का जलना।

उत्तर भारत में वर्तमान में चल रहे ‘पराली’ यानि फसल के अवशेष या कटाई के मौसम के साथ, ब्रोन्कियल अस्थमा के मामलों में तेज वृद्धि देखी गई है। श्वसन रोगों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए हर साल मई के पहले मंगलवार को विश्व अस्थमा दिवस मनाया जाता है।

डॉ. जफर अहमद इकबाल, डायरेक्टर, पल्मोनोलॉजी, क्रिटिकल केयर एंड स्लीप स्टडीज, फोर्टिस हॉस्पिटल, मोहाली, ने एक एडवाइजरी में बताया कि ब्रोन्कियल अस्थमा और संबंधित उपचार विकल्पों से अपने स्वास्थ्य की रक्षा कैसे करें। उन्होंने बताया कि ‘‘अस्थमा के मामले हर साल पराली जलाने के मौसम में बढ़ जाते हैं, आमतौर पर मई-सितंबर से ये मामले अपने शिखर पर होते हैं। इस दौरान सांस संबंधी दिक्कतों को लेकर रोजाना करीब 10 मरीज फोर्टिस मोहाली आते हैं। डॉ. जफर विस्तार से बात करते हुए कहा कि अस्थमा के शुरुआती लक्षणों को समझने और आवश्यक सावधानियों का पालन करने के बारे में विस्तार से इसके बारे में जानना जरूरी है।

ब्रोन्कियल अस्थमा बच्चों और वयस्कों को प्रभावित करने वाली एक पुरानी स्थिति है। वास्तव में, यह बच्चों में पुरानी बीमारी का सबसे आम कारण है। दमा के रोगी का वायु मार्ग सूजन और वायुमार्ग की मांसपेशियों (एयरवे मसल्स) के कसने के कारण सूज जाता है, जिससे वायुमार्ग का लुमेन संकुचित हो जाता है।

इसके प्रमुख लक्षणों में खांसी, घरघराहट, सीने में जकडऩ और सांस फूलना आदि शामिल हैं। ये आम तौर पर सामान्य सर्दी, धूल, इत्र, खाद्य पदार्थ, पराग, मौसम में बदलाव, व्यायाम आदि सहित कुछ एग्रेसिव तत्वों या कारकों द्वारा ट्रिगर होते हैं। अनुपचारित या कम इलाज वाले अस्थमा से जीवन की खराब गुणवत्ता होती है, जिसमें नींद की गड़बड़ी, भारी काम करने में असमर्थता शामिल है। या नियमित काम, खराब कार्य प्रदर्शन, बच्चों में खराब विकास और मानसिक विकास और बार-बार अस्पताल में भर्ती होना। सह-रुग्णता के साथ तीव्र तीव्रता वाले रोगियों में मृत्यु तक हो सकती है।

अस्थमा एक इलाज योग्य बीमारी नहीं है क्योंकि यह परिवारों में जीन में चलता है। हालांकि, इसे नियंत्रित किया जा सकता है। यह भाई-बहनों, करीबी रिश्तेदारों, एलर्जी, पित्ती, राइनाइटिस, दोनों नथुनों, मोटे या अधिक वजन वाले बच्चों और वयस्कों में देखा जाता है। शहरीकरण और पर्यावरण प्रदूषण ने इस बीमारी के बढ़ते प्रसार में योगदान दिया है।

ब्रोन्कोडायलेटर्स और इनहेल्ड कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स इनहेलेशन रूट के माध्यम से दिए जाते हैं क्योंकि इनके नगण्य दुष्प्रभाव होते हैं। फेफड़ों में उचित दवा वितरण के लिए इनहेलर तकनीक भी सुनिश्चित की जाती है। अस्थमा के लक्षणों के बिगडऩे पर आंशिक रूप से या अनुपचारित मामले बढ़ जाते हैं। यह फेफड़े को स्थायी रूप से नुकसान पहुंचा सकता है। बायोलॉजिक्स जैसे इंजेक्शन प्रभावित मरीजों को हर 15 दिन से दो महीने में एक बार दिए जाते हैं। ब्रोन्कियल थर्मोप्लासी जैसे ब्रोन्कोस्कोपिक इंटरवेशंस भी अस्थमा के इलाज के लिए एक नई तकनीक है।

अस्थमा का प्रबंधन करने के लिए, किसी भी आपत्तिजनक या ट्रिगर करने वाले खाद्य पदार्थ का निरीक्षण करना चाहिए और इसे पूरी तरह से टालना चाहिए। संतुलित पौष्टिक आहार नियमित होना चाहिए। फेफड़ों की क्षमता को सर्वोत्तम बनाए रखने के लिए योग और सांस लेने के व्यायाम को अपने दैनिक जीवन की दिनचर्या में शामिल करना चाहिए।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!