सहरसा/ जिले में चलेगा राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम – News4 All

News4 All

Latest Online Breaking News

सहरसा/ जिले में चलेगा राष्ट्रीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम

😊 Please Share This News 😊

1 से 19 वर्ष तक के बच्चों को खिलायी जाएगी अल्बेंडाजोल टैबलेट

शारीरिक एवं मानसिक विकास बाधित करते हैं कृमि

कृमि नाशक गोलियों का सामुदायिक स्तर पर एक साथ सेवन जरूरी

 

सहरसा : बच्चों को कुपोषण सहित अन्य कई प्रकार की परेशानियों का एक कारण उनका कृमि संक्रमित होना है। जिसे दूर करने के लिए राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस कार्यक्रम शुरू किया जाएगा। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार के निर्देश के आलोक में प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। इस कार्यक्रम के तहत जिले के 1 वर्ष से 19 वर्ष तक के सभी बच्चों को अल्बेंडाजोल 400 मिलीग्राम की निश्चित खुराक कोविड अनुरूप व्यवहारों का पालन करते हुए खिलायी जायेगी। इस अतिमहत्वपूर्ण कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए आशा कार्यकर्त्ता, आंगनबाड़ी सेविका सहायिका, जीविका दीदियों सहित स्वास्थ्य विभाग के सहयोगी संस्थाएं एवं हितधारी संगठनों से अपेक्षित सहयोग लिया जाएगा। साथ ही कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए आवश्यक प्रचार-प्रसार भी किये जायेंगे।

कृमि संक्रमण के प्रभाव एवं संचरण चक्र पर प्रकाश डालते हुए जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डा. कुमार विवेकानंद ने बताया कृमि ऐसे परजीवी हैं जो मनुष्य के आंत में रहते हैं। आंतों में रहकर ये परजीवी जीवित रहने के लिए मानव शरीर के आवश्यक पोषक तत्वों पर ही निर्भर रहते हैं। जिससे मानव शरीर आवश्यक पोषक तत्वों की कमी का शिकार हो जाता है और वे कई अन्य प्रकार की बीमारियों के शिकार हो जाते हैं। खासकर बच्चों और किशोर एवं किशोरियों पर कृमि के कई दुष्प्रभाव पड़ते हैं। जैसे- मानसिक और शारीरिक विकास का बाधित होना, कुपोषण का शिकार होने से शरीर के अंगों का विकास अवरूद्ध होना, खून की कमी होना आदि जो आगे चलकर उनकी उत्पादक क्षमता को बुरी तरह प्रभावित करते हैं। कृमि का संचरण चक्र संक्रमित बच्चे के खुले में शौच से आरंभ होता है। खुले में शौच करने से कृमि के अंडे मिट्टी में मिल जाते हैं और विकसित होते हैं। अन्य बच्चे जो नंगे पैर चलते हैं या गंदे हाथों से खाना खाते हैं या बिना ढ़के हुए भोजन का सेवन करते हैं आदि लार्वा के संपर्क में आकर संक्रमित हो जाते हैं। इसके लक्षणों में दस्त, पेट में दर्द, कमजोरी, उल्टी और भूख का न लगना आदि हैं। संक्रमित बच्चों में कृमि की मात्रा जितनी अधिक होगी उनमें उतने ही अधिक लक्षण परिलक्षित होते हैं। हल्के संक्रमण वाले बच्चों व किशोरों में आमतौर पर कोई लक्षण नहीं दिखाई पड़ते हैं।

कृमि नाशक गोलियों अल्बेंडाजोल के सेवन की आवश्यकता पर बल देते हुए जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डा. कुमार ने बताया कृमि नाशक गोलियाँ अल्बेंडाजोल का साल में एक बार सेवन करने से बच्चों के शरीर पर किसी प्रकार के विपरीत परिणाम नहीं आते हैं। इसके सेवन से उनके शरीर में पल रहे कृमि नष्ट हो जाते हैं जिससे उनके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में विकास होता है। उनके स्वास्थ्य और पोषण में सुधार आता है जिससे उनके शारीरिक विकास के उचित लक्षण दिखाई देने लगते हैं। एनीमिया का शिकार होने से बच पाते हैं। यही नहीं एक साथ इस आयुवर्ग के बच्चों द्वारा कृमि नाशक गोलियों का सेवन किये जाने से सामुदायिक स्तर पर कृमि से किसी अन्य के संक्रमित हो जाने की संभावनाएं कम हो जाती हैं। इसलिए सरकार द्वारा प्रत्येक वर्ष एक साथ इस आयुवर्ग के बच्चों और किशोर एवं किशोरियों को कृमि मुक्ति दिवस कार्यक्रम चलाते हुए अल्बेंडाजोल की निश्चित खुराक खिलायी जाती है।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!