चंडीगढ़/ ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले दिव्यांगों को भी कृत्रिम अंगों जैसी मदद कर मुख्यधारा में शामिल करना होगा : बंडारू दत्तात्रेय – News4 All

News4 All

Latest Online Breaking News

चंडीगढ़/ ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले दिव्यांगों को भी कृत्रिम अंगों जैसी मदद कर मुख्यधारा में शामिल करना होगा : बंडारू दत्तात्रेय

😊 Please Share This News 😊

✍️ मनोज शर्मा, चंडीगढ़

 

चंडीगढ़ : हरियाणा के  राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि  भारत में कुल दिव्यांगो में से 75 प्रतिशत दिव्यांग व्यक्ति ग्रामीण इलाकों में रहते हैं, इसलिए  सामाजिक संस्थाओं  को चाहिये कि वे ऐसे अछूते इलाकों को भी अपना कार्यक्षेत्र बनाकर जरूरतमंदों की मदद करें ।  राज्यपाल दत्तात्रेय रविवार को फरीदाबाद के सेक्टर 7 स्थित माहेश्वरी भवन में  जिला के 1200 से ज्यादा दिव्यांगों को कृत्रिम अंग भेंट करने के उपरांत उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। कृत्रिम अंग वितरण समारोह का आयोजन माहेश्वरी सेवा ट्रस्ट (रजि) फरीदाबाद, जिला रेडक्रास सोसायटी, जिला समाज कल्याण विभाग और भगवान महावीर विकलांग सहायता सीमिती जयपुर के संयुक्त तत्वावधान में किया गया था। इस दौरान लगभग 1200 से अधिक दिव्यांगों को कृत्रिम पैर, कृत्रिम हाथ (कोहनी से नीचे) पोलियो ग्रस्त व्यक्तियों को कैलीपर्स, बैसाखियां, व्हील चेयर, हाथ से चलाने वाली ट्राई साइकिल और कान से सुनने वाली मशीन भेंट की गई। अपने संबोधन में महामहिम राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि आज इस दिव्यांग कल्याण शिविर में आकर मुझे बेहद प्रसन्नता का अनुभव हो रहा है।  सभी समाज सेवियों को बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि यह कार्य मानवता की सच्ची सेवा है।

उन्होंने कहा कि व्यक्ति चाहे शारीरिक रूप से दिव्यांग हो या मानसिक रूप से, वह हमारे समाज का उतना ही महत्वपूर्ण अंग है जितना कोई अन्य आम आदमी। यह प्रकृति की देन है कि दिव्यांगों में ऐसी प्रतिभा विकसित हो जाती है जिसके कारण वे अद्भुत कार्य कर डालते हैं। इसका जीता जागता उदाहरण हमारे पैरालंपियन हैं, जिन्होंने अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मेडल जीतकर देश का नाम विश्व गोल्ड मेडल जीत कर रोशन किया है।

दिव्यांगों की सहायता करके उन्हें आत्मनिर्भर बनाने का आह्वान करते हुए महामहिम राज्यपाल ने कहा कि सरकार ने भी दिव्यांगता उन्मूलन तथा दिव्यांग पुनर्वास योजनाएं शुरू की हैं। इसके लिए सरकार पोलियो ड्राप पिलाने, चिकित्सालय खोलने, चिकित्सकों एवं अन्य चिकित्सा कर्मियों की नियुक्ति, सभी तरह की स्वास्थ्य सुविधाओं की व्यवस्था शामिल है। उन्होंने कहा कि सरकार के प्रयासों में काफी हद तक सफलता भी मिली है। हाल के वर्षों में दिव्यांगों के प्रति समाज का नजरिया भी तेजी से बदला है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में दिव्यांगजनों के कल्याण के लिए अनेक कदम उठाए जा रहे हैं। ओटिज्म, सेरेब्रल पालसी, मंदबुद्धि और अनेक अशक्तताओं से जूझ रहे लोगों के कल्याण के लिए नेशनल ट्रस्ट की स्थापना की गई है। दिव्यांगों को कारोबार से जोड़ने के लिए नेशनल हेंडीकैप्ड फाइनैंस एंड डेवलपमेंट कोर्पोरेशन की स्थापना की गई है। इस कोर्पोरेशन द्वारा दिव्यांगों को अपना व्यापार शुरू करने के लिए 5 लाख रूपये तक का बिजनेस लोन दिया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि सरकार की कल्याणकारी योजनाओं को अधिक से अधिक दिव्यांगजनों तक पहुंचाने के लिए दिव्यांगजनों की श्रेणी 7 से बढ़ाकर 21प्रतिशत कर दी गई है। उन्होंने कहा कि पहली बार दिव्यांगजनों के लिए पूर्व मैट्रिक व मैट्रिक के बाद विदेशी छात्रवृत्ति शुरू की गई है। दिव्यांगजनों को सरकारी नौकरियों में उच्च शिक्षा में 4 से 5 प्रतिशत तक के आरक्षण का प्रावधान किया गया है।  हरियाणा का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा समाज सेवा के क्षेत्र के लिए वर्ष 2021-22 में दस हजार करोड़ रूपये खर्च करने का प्रावधान किया गया है, जो इस क्षेत्र के लिए रिकाॅर्ड राशि है।

सभी समाजसेवियों से अपील करते हुए उन्होंने कहा की सरकार की योजनाएं व कार्यक्रम तब तक पूरी तरह सफल नहीं हो सकते जब तक उनमें जनता की रूचि और समर्थन एवं उसकी पूर्ण भागीदारी न हो। ऐसे में बेहतर समाजसेवी संस्थाओं के अथक प्रयास से ही हम समाज के अंतिम व्यक्ति तक के अधिकारों की सुरक्षा करके उसके जीवन को सरल एवं आनन्दमय बनाने का महान कार्य किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण काल के दौर में सभी सरकारी व गैर सरकारी संस्थाओं ने जिस प्रकार से लोगों की सेवा की है, उससे हमारे देश का अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर सम्मान बढ़ा है। इसी विशेषता के कारण भारत की दुनिया में पहचान है। विभिन्न सामाजिक कार्यकर्ताओं व संस्थाओं ने कोरोना काल में अपनी जान हथेली पर रखकर कार्य किया है। जिससे लाखों लोगों को बचाया जा सका है। यह सेवाभाव सदैव याद रखा जाएगा।

राज्यपाल ने कहा कि समाज-सेवा का कार्यक्षेत्र अत्यन्त विस्तृत है। पीड़ित मानवता के कल्याण के लिए बहुत कुछ करने को है। जो कुछ भी मानव-कल्याण का कार्य कर सकते हैं वह पूरे समर्पित भाव से करें। जो भी साधन उपलब्ध हैं, उनके द्वारा ही जितना संभव हो सके मानव, समाज व राष्ट्र की सेवा करें।कार्यक्रम में परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने फरीदाबाद वासियो की तरफ से  राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय का स्वागत किया। रैडक्रास सोसायटी हरियाणा के जनरल सैक्रेक्ट्री डीआर शर्मा ने हरियाणा रैडक्रास सोसायटी द्वारा किए जा रहे जनहितैषी कार्यक्रमों बारे विस्तार पुर्वक बताया। पदमश्री विरेन्द्र राज मेहता ने भगवान महावीर विकलांग सहायता सीमिती द्वारा दिव्यांगजनों के लिए विश्व में किए जा रहे जनहितकारी कार्यक्रमों बारे प्रकाश डाला।

इस अवसर पर महेश गट्टानी अध्यक्ष, माहेश्वरी सेवा ट्रस्ट,  नारायण प्रसाद झवंर अध्यक्ष माहेश्वरी मंडल, शिविर के सयोंजक रमेश झवंर, अशोक सोमानी ने भी लोगों को सम्बोधित किया। कार्यक्रम में फरीदाबाद के विधायक नरेन्द्र गुप्ता, तिगांव से विधायक राजेश नागर, मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव अजय गौड, रैडक्रास सोसायटी हरियाणा की वाईस चैयरपर्सन सुषमा गुप्ता,  उपायुक्त जितेन्द्र यादव, एसीपी नितेश अग्रवाल, एसडीएम त्रिलोक चंद, रैडक्रास के सचिव विकास कुमार, समाज कल्याण अधिकारी सुशीला देवी, जिला शिक्षा अधिकारी ऋतु चौधरी,मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा विनय गुप्ता,रोटेरियन जगदीश कुमार, ब्लड कोऑर्डिनेटर विमल खंडेलवाल, जिला प्रशिक्षण अधिकारी ईशाक कौशिक, डीआईओ डॉ मान सिंह सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!