मोहाली/ थायरॉयड को पूरी तरह से बेअसर करने के लिए इसकी जल्द पहचान की जरूरत : डॉ. के पी सिंह – News4 All

News4 All

Latest Online Breaking News

मोहाली/ थायरॉयड को पूरी तरह से बेअसर करने के लिए इसकी जल्द पहचान की जरूरत : डॉ. के पी सिंह

😊 Please Share This News 😊

✍️ सोहन रावत, चंडीगढ़


मोहाली  : थायरॉयड ग्लैंड (ग्रंथि), एक तितली के आकार की ग्रंथि है जो कि मेटाबोलिज्म का प्राथमिक नियामक है और शरीर के कई कार्यों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले हार्मोन के उत्पादन के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हालांकि, इससे संबंधित बीमारी, इसकी पहचान और उपचार निदान के बारे में आम लोगों में जागरूकता का स्तर काफी कम है।

थायरॉयड और इससे संबंधित बीमारियों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए हर साल जनवरी महीने को थायरॉयड जागरूकता माह के रूप में मनाया जाता है।

डॉ. केपी सिंह, डायरेक्टर, एंडोक्रिनोलॉजी, फोर्टिस हॉस्पिटल, मोहाली ने थायरॉयड की समस्याओं के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि थायरॉयड ग्लैंड, ठीक गले के आसपास के क्षेत्र में नीचे बनी होती है और ये अपने ‘विंग्स यानि पंखों’ को आपके श्वासनली के दोनों ओर फैला देती है। थायरॉइड ग्लैंड कार्बोहाइड्रेट, फैट्स और प्रोटीन के पाचन को बढ़ाती है और शरीर के वजन को कम करती है। यह हृदय गति और रक्तचाप को भी बढ़ाता है। थायरॉयड ग्लैंड के रोग हाइपरथायरॉयडिज्म, हाइपोथायरॉयडिज्म, गोइटर, क्रेटिनिज्म, मायक्सेडेमा, थायरॉयड कैंसर और शायद ही कभी थायरॉयड स्टोर्म के रूप में प्रकट होते हैं।

उन्होंने बताया कि थायरॉयड की समस्या पोषक तत्वों की कमी के कारण होने वाले कुपोषण के कारण होती है। इसके साथ ही कैफीन, चीनी, या अन्य स्टिमुलेंट्स पदार्थों का अत्यधिक सेवन; और ऐसे पदार्थ जो थायरॉयड के समुचित कार्य को बाधित करते हैं, जैसे कि शराब आदि।

डॉ सिंह ने बताया कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं में थायरॉयड की स्थिति विकसित होने की संभावना 6 से 8 गुना अधिक होती है। 50 वर्ष से अधिक आयु वालों को भी स्वास्थ्य की स्थिति विकसित होने का अधिक खतरा होता है।

उन्होंने बताया कि थायरॉयड रोग का एक व्यक्तिगत इतिहास रोग के विकास के लिए वर्तमान जोखिम को बढ़ाता है। उदाहरण के लिए, यदि गर्भावस्था के बाद किसी महिला को प्रसवोत्तर थायरॉयडिटिस होता है जो अपने आप ठीक हो जाता है, तो उसे गर्भावस्था के बाद या बाद में जीवन में फिर से थायरॉयड की समस्या होने का खतरा बढ़ सकता है।

उन्होंने बताया कि थायरॉयड की समस्या का शीघ्र निदान स्वास्थ्य की स्थिति के बेहतर प्रबंधन में मदद करता है। स्वस्थ खानपान, हार्मोन संतुलन के लिए एंडोक्राइन ग्रंथियों की जांच कराना, सभी प्रकार के रेडिएशन के अत्यधिक संपर्क से बचना, डिस्टिल्ड पानी से परहेज करें, भोजन में खनिजों के कीलेटेड रूपों का प्रयोग करें क्योंकि ये शरीर द्वारा आसानी से अवशोषित हो जाते हैं और थायरॉयड की समस्याओं को दूर करने में मदद करते हैं।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!