विशेष कविता/ देश रक्षक महायोद्धा को विनम्र श्रद्धांजलि – News4 All

News4 All

Latest Online Breaking News

विशेष कविता/ देश रक्षक महायोद्धा को विनम्र श्रद्धांजलि

😊 Please Share This News 😊

✍️ डॉ. विनय कुमार श्रीवास्तव (वरिष्ठ प्रवक्ता)

            पी बी कालेज, प्रतापगढ़ (उ0प्र0)


सम्पूर्ण देश है दुःखी आज,
महावीर योद्धा ये खोया है।

आज अनेक देशभक्तों को,
वीरों को भारत ने खोया है।

इतना दुःखद हादसा होगा,
सपनें में भी कभी न सोचा।

8दिसंबर 2021 ऐसा होगा,
किसी ने ऐसे नहीं था सोचा।

सेना का चॉपर दुर्घटनाग्रस्त,
भयानक आग ने दिया मार।

चौदह देश भक्तों में से तेरह,
अचानक हादसे का शिकार।

जान गंवाई सब ने है अपनी,
बचे जो जीवन मृत्यु से जूझे।

सेना के ये जवान हमें बचाते,
आज स्वयं जिंदगी को जूझे।

ग्यारह सैनिक वीर जल गए,
बच न पाए इस अनहोनी से।

अस्पताल में दो वीरों ने तोड़े,
जीवन हार गए अनहोनी से।

जी सी वरुण सिंह भी घायल,
जंग लड़ रहा जीवन मृत्यु से।

मात्र यह बचे अकेले चौदह में,
डॉक्टर जुटे बचाने में मृत्यु से।

शौर्य चक्र से सम्मानित हैं वह,
ऐसे वीर यह हमारे हैं 1योद्धा।

डिफेन्स अफसर क्रू के स्टाफ,
हेलीकाप्टर में सवार थे योद्धा।

हे! ईश्वर उनकी ये जान बचाएं,
जीवन पाएं घर लौट कर आएं।

अपने बीबी बच्चों एवं देश को,
एक बार फिर चेहरा दिखलाएं।

अप्रत्याशित दुर्घटना में शहीद,
ये हमारे देश के तेरह योद्धा हैं।

तीनों सेना के आधुनिकीकरण,
मजबूत करने के महायोद्धा हैं।

जनरल वी रावत सपत्नीक रहे,
सेना वाले हेलीकाप्टर यात्रा में।

डिफेन्स स्टाफ को लेक्चर देना,
ये उद्देश्य रहा है ले चले यात्रा में।

जाने किस मनहूस घड़ी में चले,
हेलीकाप्टर में सभी सवार हुए।

सीडीएस विपिन रावत व पत्नी,
दुर्भाग्य से यह कुन्नूर न पार हुए।

तमिलनाडु का कुन्नूर का हादसा,
एटीसी से संपर्क टूटा तो हादसा।

एक भयानक दुःखद चॉपर क्रैश,
सेना के इतिहास में बड़ा हादसा।

दुर्घटनाग्रस्त हुआ ये हेलीकाप्टर,
अचानक बनाहै आग का गोला।

देश के प्रथम सीडीएस थे रावत,
जनरल संग तेरह वीर बने शोला।

वायुसेना के एमआई-17वी5 से,
11.48 बजे सुलूर एयर बेस से।

उड़े वीर वेलिंगटन में थी लैंडिंग,
चॉपरक्रैश हुआ पूर्व एयरबेस से।

5-7 मि. में ना जाने क्या हुआ है,
गिरा धरा पे एमआई-17पड़ा है।

सबसे पहले रविकुमार ने देखा है,
दुर्घटनास्थल पे शव जला पड़ा है।

13 क्षत विक्षत शव में 3पहचान,
शेष डीएनए से होनी है पहचान।

सौंपेंगे यह शव परिवार को तभी,
बाकी शवों की हो जाए पहचान।

हे! शूरवीर हे! देश रक्षक सैनिक,
हे! सीडीएस के अमला परिवार।

सबको मेरा नमन वंदन है प्रणाम,
नम आँखें दें श्रद्धांजलि बार-बार।

तुम याद रहोगे सदा हे!वीर शहीद,
तुम देश की शान हे!अमर शहीद।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!