सहरसा/ कोरोना के नये वैरिएंट से बचने के लिए करें कोविड- 19 नियमों का पालन : सिविल सर्जन – News4 All

News4 All

Latest Online Breaking News

सहरसा/ कोरोना के नये वैरिएंट से बचने के लिए करें कोविड- 19 नियमों का पालन : सिविल सर्जन

😊 Please Share This News 😊

हर घर दस्तक अभियान गढ़ रहा है नित नये आयाम

83.5 प्रतिशत पात्र लाभुकों को आच्छादित कर जिला राज्य में सबसे आगे

हर घर दस्तक अभियान रहा सफल

रिफ्युजल रिस्पांस टीम एवं वार रूम रहे उपयोगी

सहरसा : जिले के अंतिम पात्र लाभार्थी को कोविड- 19 वैक्सीन की दोनों डोज लग पाये इसके लिए स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह कटिबद्ध है। अबतक जिले में 83.5 प्रतिशत पात्र लाभुकों को कोविड- 19 वैक्सीन की पहली डोज वहीं इनमें से 49 प्रतिशत से अधिक लोगों को दूसरी डोज दी जा चुकी है। जिले में अब तक 16 लाख 33 हजार से अधिक टीके लगाये जा चुके हैं। इसमें से 10 लाख 93 हजार से अधिक लोगोें को पहला डोज एवं इनमें से 5 लाख 39 हजार से अधिक को दूसरी डोज लगायी जा चुकी है।

सिविल सर्जन डा. अवधेश कुमार ने कहा जिले में चल रहा हर घर दस्तक अभियान अब अंतिम चरण में है। इस अभियान के माध्यम से जिले में कोविड- 19 वैक्सीन की पहुँच हर घर तक पहुँचाने में काफी सफलता मिली है। यह पूर्व के अभियानों से काफी भिन्न रहा है। पूर्व के अभियानों में जहां कैम्प लगाकर एवं अन्य कई माध्यमों से एक दिन में अधिक से अधिक लोगों को कोविड- 19 का टीका लगाया जाता था वहीं इस अभियान के तहत पात्र लाभार्थियों को सूचीबद्ध करते हुए उनके निकट पहले कैम्प फिर उनके घरों तक जाकर टीका लगाने का काम किया जा रहा है। इससे जिले में कोविड- 19 वैक्सीन से आच्छादन के प्रतिशत में काफी सुधार हुआ है। जिला अब राज्य में सबसे अधिक प्रतिशत पात्र लाभुकों को कोविड- 19 वैक्सीन से आच्छादित करते हुए पिछले कई दिनों से एक नम्बर पर चल रहा है। उन्होंने बताया इतना ही नहीं दूसरे डोज से बचे पात्र लाभुकों की संख्या भी राज्य में सबसे कम सहरसा जिले की ही है।

सिविल सर्जन डा. अवधेश कुमार ने बताया जिले में चल रहे हर घर दस्तक अभियान के पूर्व जिले में पात्र लाभुकों का मतदाता सूची के आधार पर घर-घर जाकर सर्वेक्षण एवं सर्वेक्षण के दौरान मिले फीडबैक के आधार जिलाधिकारी के दिशा-निर्देश पर कराये गये पुनः सर्वेक्षण द्वारा जिले में वंचित पात्र लाभुक एवं दूसरे डोज के लाभार्थियों का सही-सही पता चल पाया। इसके बाद पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर सरकार द्वारा चलाये जा रहे हर घर दस्तक अभियान में वंचितों एवं दूसरे डोज के पात्र लाभुकों की संख्या के आधार पर क्षेत्रवार माइक्रोप्लान तैयार करते हुए जिले में वंचितों एवं दूसरे डोज के पात्र लाभुकों को कोविड- 19 वैक्सीन का टीका लगाया जाने लगा।

सिविल सर्जन डा. अवधेश कुमार ने बताया जिले में पहले डोज से वंचित सूचीबद्ध लाभार्थियों को टीका लगाने के लिए रिफ्यूजल रिस्पांस टीम एवं दूसरे डोज के पात्र लाभुकों को दूरभाष पर संपर्क कर उन्हें अपना दूसरा डोज लगाने के लिए उत्प्रेरित करने का काम जिले में हर घर दस्तक अभियान के दौरान किया गया। रिफ्यूजल रिस्पांस टीमों ने भी वंचितों को कोविड- 19 वैक्सीन लगाने में अपनी अहम भूमिका निभायी। कई स्थानों पर लोगों द्वारा वैक्सीन लेने से इनकार किये जाने पर रिफ्यूजल रिस्पांट टीमें जाकर लोगों को समझा बुझाकर कोविड- 19 टीका लगाने में सफलता पायी है। वहीं प्रखंड स्तर पर वार रूम स्थापित करते हुए दूसरे डोज के पात्र लाभुकों को अपना दूसरा डोज लेने के लिए संपर्क स्थापित करते हुए जागरूक कर दूसरा डोज लगाया गया।

सिविल सर्जन डा. अवधेश कुमार ने कोरोना वायरस के नये वैरियंट से बचने के बारे में बताया कि कोरोना वायरस एक ऐसा वायरस है जो अपने आप में क्षमताओं को विकास कर, लोगों को अपना शिकार बनाने में सक्षम है। इससे बचने के लिए अभी भी कोविड अनुरूप व्यवहार बनाये रखना जरूरी है। इसलिए कोरोना संक्रमण से बचने एवं इसके प्रसार को रोकने के लिए लोगों को जागरूक होकर कोविड अनुरूप व्यवहार अपनाये रखना जरूरी है। मास्क, सामाजिक दूरी एवं हाथों की स्वच्छता कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए अभी भी प्रासंगिक हैं।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!