सुपौल/ फाइनेंस कंपनी के कर्मियों ने लोन की किश्त नही देने पर महिला को पीटा : महिला की मौत – News4 All

News4 All

Latest Online Breaking News

सुपौल/ फाइनेंस कंपनी के कर्मियों ने लोन की किश्त नही देने पर महिला को पीटा : महिला की मौत

😊 Please Share This News 😊

✍️ अमरेश कुमार, सुपौल

आक्रोशित ग्रामीणों ने कर्मियों को बनाया बंधक

पिपरा (सुपौल) : लोन की राशि वसूलने गए फाइनेंस कंपनी के कर्मियों के द्वारा लोन का किश्त नहीं देने पर एक महिला की बेरहमी से पिटाई कर दी गई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार पिटाई के बाद महिला की घटना स्थल पर ही मौत हो गई। जिसके बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने फाइनेंस कर्मी को बंधक बना लिया । इसके बाद पूरे गाँव मे तनाव का माहौल पैदा हो गया ।

जानकारी अनुसार घटना पिपरा थाना क्षेत्र के रामनगर वार्ड नं 5 की है। मंगलवार को लोन की किश्त लेने आए फाइनेंस कर्मचारी व कर्जदार महिला के बीच किश्त को लेकर बहसबाजी हुई जिसमें फाइनेंस कर्मी ने अपने सहयोगी के साथ उसकी पिटाई कर दी। जिसमें 71 वर्षीय महिला की घटना स्थल पर ही मौत हो गई । मृतक महिला रामनगर वार्ड 5 महादलित टोला की स्व. फूलो सादा की पत्नी दुलारी देवी बताया जाता है। घटना के बाद ग्रामीणो ने फाइनेंस कम्पनी के सभी 7 कर्मचारियों को बन्धक बना लिया है।

मृतका दुलारी देवी के पूतोह पुनिया देवी ने माइक्रोफाइनेस कम्पनी से 25 हजार की लोन ली थी। जिसका मासिक किश्त लेने मंगलवार की सुबह कम्पनी के एक कर्मचारी उनके घर पहुंचा। प्राप्त जानकारी के अनुसार किश्ती मागने पर महिला के द्वारा दोपहर में गेंहू बेचकर देने की बात कही गई। जिसपर गुस्साए फाइनेंस कर्मी ने अपने और 6 साथी को बुलाया और महिला की बेरहमी से पिटाई कर दी। जिससे महिला की मौत हो गई। घटना से गुस्साए ग्रामीणो ने फाइनेंस कंपनी के सभी कर्मचारियों को बन्धक बना लिया।

घटना की सूचना पिपरा पुलिस को दे दी गई। सूचना मिलते ही घटना स्थल पर पिपरा पुलिस सहित सदर डीएसपी कुमार इंद्रप्रकाश , एसडीओ मनीष कुमार घटनास्थल पर पहुंच गए और ग्रामीणों को समझाने बुझाने का प्रयास करने लगे । घटना से गाँव मे माहौल गर्म था । ग्रामीण फाइनेंस कम्पनी से मुआवजे की मांग कर रहे थे ।

देर शाम पुलिस ने महिला के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया, वहीं फाइनेंस कर्मीयों को भी ग्रामीणों के बंधन से मुक्त कर उनके विरुद्ध समुचित कार्रवाई करने की बात कही । इस संबंध में फिलहाल पुलिस अधिकारी कुछ भी बोलने से बच रहे हैं।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!