साहित्य/ होली विशेष गीत : फगुआ – News4 All

News4 All

Latest Online Breaking News

साहित्य/ होली विशेष गीत : फगुआ

😊 Please Share This News 😊

✍️ सुधांशु पांडे मुक्त प्राण “निराला”

आया-आया फगुआ;

खूब उड़ाओ री गुलाल।

भींग रही चुनरी रंगो से,

प्रेम बरसता हैं अंगों से।

सतरंगी हैं आसमान,

पृथ्वी देखें होकर उतान।

मले सजनवा रंगों से;

गोरी के गोरे गाल।

ढोल मजीरा बजे बजाए,

चुन्नी में गोरी शर्माए।

और कहें रंग दो;कलियाँ,

मिटे उदासी खुश हो गलियाँ।

बैठो हो त्यागो छोड़ो;

मन में भरा मलाल।

नारंगी‍,लाल,हरा,पीला,

चुस्त हुआ मन ढ़ीला-ढ़ीला।

मधुमास की मीठी फुहार,

निर्जनता में सहसा गुहार।

लेकर डेरा भगी मूकता;

ईष्या हुई हलाल।

गुझिया,पूड़ी,तरकारी,

खेलै फगुआ बारी-बारी।

एक तरफ रंगों की पुड़िया,

बाँधे,गठिआए बैठी गुडियाँ।

मन में रखकर अलबेला सा;

मीठा सरल सवाल।

कीचड़ मिट्टी जो पाओ,

गोरे को पकड़ो नहलाओ।

रंग उड़ाओ गाड़ा-गाड़ा,

नंगी होकर भागे जाड़ा।

सरसो नाचे मटकाए;

अमराई है खुशहाल।

पसरी है आँगन में होली,

खेल खालकर आँख मिचौली।

खेतों में पसरा पीलापन,

साफ गगन हल्का नीलापन।

कुर्ता फट कर चार हुआ;

सतरंगी हुई रुमाल।

रचना : सुधांशु पांडे मुक्त प्राण “निराला” 

प्रयागराज (उत्तरप्रदेश)

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]
error: Content is protected !!